सिनेमास्कोप CINEMASCOPE

एक था गुल और एक थी बुलबुल/Ek tha gul aur ek thi bulabul

एक था गुल और एक थी बुलबुल/Ek tha gul aur ek thi bulabul,जब जब फूल खिले, Jab Jab Phool Khile 1965 Movies

गीत/ Title: एक था गुल और एक थी बुलबुल/Ek tha gul aur ek thi bulabul
सिनेमा/ Movie: जब जब फूल खिले, Jab Jab Phool Khile 1965 Movies
गायक/ Playback: मोहम्मद रफ़ी, Mohammad Rafi , नंदा, Nanda
गीतकार/ Lyricist: आनंद बक्षी, Anand Bakshi
संगीत/Music: कल्याणजी-आनंदजी, Kalyanji-Anandji

एक था गुल और एक थी बुलबुल
एक था गुल और एक थी बुलबुल
दोनों चमन में रहते थे
है ये कहानी बिलकुल सच्ची
मेरे नाना कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
ऐसे गाती थी, ऐसे गाती थी
कैसे गाती थी
बुलबुल कुछ ऐसे गाती थी
जैसे तुम बातें करती हो
वो गुल ऐसे शर्माता था
ऐसे शर्माता था ऐसे शर्माता था
कैसे शर्माता था
वो गुल ऐसे शर्माता था
जैसे मैं घबरा जाता हूँ
बुलबुल को मालूम नही था
गुल ऐसे क्यूं शर्माता था
वो क्या जाने उसका नगमा
गुल के दिल को धड़काता था
दिल के भेद ना आते लब पे
ये दिल में ही रहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

फिर क्या हुआ!

लेकिन आखिर दिल की बातें
ऐसे कितने दिन छुपती हैं
ये वो कलियाँ है जो इक दिन
बस काँटे बनके चुभती हैं
इक दिन जान लिया बुलबुल ने
वो गुल उसका दीवाना है
तुमको पसंद आया हो तो बोलूं
फिर आगे जो अफ़साना है

बोलो ना चुप क्यूँ हो गए!

इक दूजे का हो जाने पर
वो दोनो मजबूर हुए
उन दोनो के प्यार के किस्से
गुलशन में मशहूर हुए
साथ जियेंगे साथ मरेंगे
वो दोनो ये कहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

फिर क्या हुआ!

फिर इक दिन की बात सुनाऊं
इक सय्याद चमन में आया
ले गया वो बुलबुल को पकड़के
और दीवाना गुल मुरझाया
और दीवाना गुल मुरझाया
शायर लोग बयां करते हैं
ऐसे उनकी जुदाई की बातें
गाते थे ये गीत वो दोनों
सइयां बिना नही कटती रातें
सइयां बिना नही कटती रातें

हाय!
मस्त बहारों का मौसम था
आँख से आँसू बहते थे
एक था गुल और एक थी बुलबुल

आती थी आवाज़ हमेशा
ये झिलमिल झिलमिल तारों से
जिसका नाम मुहब्बत है वो
कब रुकती है दीवारों से
इक दिन आह गुल-ओ-बुलबुल की
उस पिंजरे से जा टकराई
टूटा पिंजरा छूटा कैदी
देता रहा सय्याद दुहाई
रोक सके ना उसको मिलके
सारा ज़मान सारी खुदाई
गुल साजन को गीत सुनाने
बुलबुल बाग में वापस आई

राजा बहुत अच्छी कहानी है

याद सदा रखना ये कहानी
चाहे जीना चाहे मरना
तुम भी किसी से प्यार करो तो
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना
प्यार गुल-ओ-बुलबुल सा करना

Ek tha gul aur ek thi bulbul
Ek tha gul aur ek thi bulbul
Donon chaman mein rehte the
Hai ye kahani bilkul sachchi
Mere nana kehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Bulbul kuch aise gati thi
Aise gati thi, aise gati thi
Kaise gati thi!
Bulbul kuch aise gati thi
Jaise tum baatein karti ho
Vo gul aise sharmata tha
Aise sharmata tha, aise sharmata tha
Kaise sharmata tha!
Vo gul aise sharmata tha
Jaise main ghabra jata hoon
Bulbul ko maloom nahin tha
Gul aise kyoon sharmata tha
vo kya jane uska nagma
Gul ke dil ko dhadkata tha
Dil ke bhed na aate lab pe
Ye dil mein hi rehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Fir kya hua!

Lekin aakhir dil ki baatein
Aise kitne dinon tak chupti hain
Ye vo kaliyan hain jo ik din
Kaatein banke chubhti hain
Ik din jaan liya bulbul ne
Vo gul uska deewana hai
Tumko pasand aaya ho to boloon
Fir aage jo afsana hai

Bolo na chup kyun ho gaye!
Ik dooje ka ho jaane par
Vo donon majboor hue
Un donon ke pyar ke kisse
Gulshan mein mashhoor hue
Saath jiyenge saath marenge
Vo donon ye kehte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Fir kya hua!

Fir ik din ki baat sunaun
Ik sayyad chaman mein aaya
Le gaya vo bulbul ko pakadke
Aur deewana gul murjhaya
Aur deewana gul murjhaya
Shayar log bayan karte hain
Aise unki judai ki baatein
Gaate the ye geet vo donon
Saiyan bina katti nahin raatein
Saiyan bina katti nahin raatein

Haay!

Mast baharon ka mausam tha
Aankh se aansoo behte the
Ek tha gul aur ek thi bulbul

Aati thi awaz hamesha
ye jhilmil jhilmil taaron se
jiska naam muhabbat hai vo
kab rukti hai deewaron se
ik din aah gul-o-bulbul ki
us pinjre se ja takrayi
toota pinjra choota kaidi
deta raha saiyaad duhai
Rok sake na usko milke
Sara zamana saari khudai
gul sajan ko geet sunane
bulbul baag mein wapas aayi

Raja bahut achchi kahani hai

Yaad sada rakhna ye kahani
Chahe jeena chahe marna
Tum bhi kisi se pyar karo to
Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna
Pyar gul-o-bulbul sa karna

ChandraKanta

Recent Posts

श्री शिवताण्डवस्तोत्रम् Shri Shivatandava Strotam

श्री शिवताण्डवस्तोत्रम् Shri Shivatandava Strotam श्री रावण रचित by shri Ravana श्री शिवताण्डवस्तोत्रम् Shri Shivatandava…

25 mins ago

बोल गोरी बोल तेरा कौन पिया / Bol gori bol tera kaun piya

बोल गोरी बोल तेरा कौन पिया / Bol gori bol tera kaun piya, मिलन/ Milan,…

5 days ago

तोहे संवरिया नाहि खबरिया / Tohe sanwariya nahi khabariya

तोहे संवरिया नाहि खबरिया / Tohe sanwariya nahi khabariya, मिलन/ Milan, 1967 Movies गीत/ Title:…

6 days ago

आज दिल पे कोई ज़ोर चलता नहीं / Aaj dil pe koi zor chalta nahin

आज दिल पे कोई ज़ोर चलता नहीं / Aaj dil pe koi zor chalta nahin,…

6 days ago

हम तुम युग युग से ये गीत मिलन के / hum tum yug yug se ye geet milan ke

हम तुम युग युग से ये गीत मिलन के / hum tum yug yug se…

6 days ago

मुबारक हो सब को समा ये सुहाना / Mubarak ho sabko sama ye suhana

मुबारक हो सब को समा ये सुहाना / Mubarak ho sabko sama ye suhana, मिलन/…

1 week ago

This website uses cookies.