Month: February 2013

‘मौत केवल शहर की क्यों दर्ज की जाती है ! ‘ ( दिल्ली- 1 )

‘शहरों के लोग बेहद असंवेदनशील होते हैं’ ! ‘उनके सीने में दिल नहीं होता’ !! आपको भी ऐसे विश्वास सुनने

Continue reading

fRagrence Of sentimentS कुछ बिखरी हुई संवेदनाएं – 1

1प्रिय ! बहोत बार तुमसे कहना चाहा किन्तु, प्रेम में गढ़ दिए गए शब्द नहीं तय कर पाए फासले अर्थ और शब्द के मध्य अर्थ तु-त-ला-ता

Continue reading