Category: मेरी कविता

चिड़िया डिप्रेशन में है

आजकल पर्यावरण संरक्षण फैशन में हैं लेकिन मेरे मोहल्ले की चिड़िया डिप्रेशन में है। महीनों से आँगन की क्यारी में

Continue reading

कुछ बिखरी हुई संवेदनाएं -2

परीक्षित..सुनों भद्रे ! तुम हो वह स्त्री परीक्षित, जिसे ढूँढा मैंने क्षितिज के उस पार जिसे मैंने खोया पाया अपने स्त्री होने की अकेली अथक,

Continue reading