Category: साहित्य आलेख

Heere Ka Heera

Heere Ka Heera हीरे का हीरा ‘उसने कहा था’ से आगे की कहानी

Heere Ka Heera ‘हीरे का हीरा’ उसने कहा था का अगला पड़ाव है जिसे डॉ. सुशील कुमार फुल्ल ने विस्तार

Continue reading
Chandradhar sharma guleri

Chandradhar sharma guleri नमस्ते भारत गुलेरी जयंती 2021

Chandradhar sharma guleri क्या पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी कहानीकार नहीं हैं? फेसबुक के बहुचर्चित कार्यक्रम *‘नमस्ते भारत’ ने पंडित चंद्रधर

Continue reading
Amrata Imroz

Amrata Imroz अमृता इमरोज़ प्रेम की खुशबू से महकते दो फूल

Amrata Imroz उसने जिस्म छोड़ा है साथ नहीं वो अब भी मिलती है कभी तारों की छांव में कभी बादलों

Continue reading
Vyangyadhara seminar

Vyangyadhara seminar व्यंग्यधारा ऑनलाइन गोष्ठी अप्रैल 25 2021

Vyangyadhara seminar ‘ बात कहने का कौशल लघु व्यंग्य रचनाओं को भी प्रभावी बना सकता है ‘- श्रीकांत आप्टे  

Continue reading
Vyangya Kavita

Vyangya Kavita व्यंग्य कविता की चुनौतियाँ

Vyangya Kavita – व्यंग्य कविता हाशिए पर क्यों? नागार्जुन की विख्यात कविता “प्रतिबद्ध” कि पंक्तियां. हैं- प्रतिबद्ध हूं/संबद्ध हूं/आबद्ध हूं…जी

Continue reading
Dr. Ramesh Saini

Dr. Ramesh Saini/वरिष्ठ व्यंग्यकार व आलोचक डॉ. रमेश सैनी

Dr. Ramesh Saini व्यंग्य की त्रैमासिकी व्यंग्ययात्रा के जुलाई-दिसम्बर 2021 अंक (कोरोना प्रभावित संयुक्तांक) का ‘त्रिकोणीय’ डॉ. रमेश सैनी पर

Continue reading
Media Vimarsh Jan-Mar 21

Media Vimarsh Jan-Mar 21 – मीडिया और मूल्यबोध विशेषांक

Media Vimarsh Jan-Mar 21 – भरोसे का नाम ही पत्रकारिता है -मीडिया विमर्श, मीडिया और मूल्यबोध विशेषांक’ मीडिया विमर्श’ जनसंचार

Continue reading
पुस्तक संस्कृति

पुस्तक संस्कृति – विश्व पुस्तक मेला 2021, नई दिल्ली(आभासी संस्करण)

पुस्तक संस्कृति पर परिचर्चा : डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ‘अरुण’ , डॉ. दिविक रमेश, डॉ. प्रेम जनमेजय और डॉ. इन्द्र

Continue reading

Himachal Kavi Sammelan SunderNagar कवि सम्मेलन-विश्व पुस्तक मेला 2021, नई दिल्ली(आभासी संस्करण)

Himachal Kavi Sammelan – हिंदी और हिमाचली भाषा की कविताएं कवि सम्मेलन-राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, विश्व पुस्तक मेला 2021(आभासी संस्करण) के

Continue reading
समकालीन हिंदी साहित्य

समकालीन हिंदी साहित्य (भाग दो) विश्व पुस्तक मेला, 2001,नई दिल्ली(आभासी संस्करण)

समकालीन हिंदी साहित्य – चरण सिंह पथिक, प्रभात गोस्वामी, वीणा वत्सल सिंह और यशपाल सिंह यश समकालीन हिंदी साहित्य भाग

Continue reading